लाँच's image
Share0 Bookmarks 55 Reads1 Likes

#बुंदेलखंडी_काव्य
--

शासन पद ऐसौ नहीं,
लेवें तनिक न लाँच*।
जांच विधि पद भी जुड़े,
आवें कैसे आँच,
आवें कैसे आंच रे भईया
आवें कैसे साँच।
चोर सैर को जात हैं,
होत कोई न जाँच।
एक कूक उठांय जहां,
पकड़ें दस या पाँच।
सहस्त्र भवन अर्बुद राशि सह,
रहे सिंहासन नाच,
रहे सिंहासन नाच रे भईया
सांच रहे न बाँच।


लांच का अर्थ- अवैध कमाई
--

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts