जननी's image

दो दिवस भले ही पाला हो,
जीवनभर या तो टाला हो;
केवल रही हो वह प्रसवनी,
केवल रही हो शिशु जननी;
बाल रुत दिया हो कितना भी दण्ड, 
सुत कहें उसे कितना भी पाखण्ड;
चाहे सुत हित से सहमत न हो,
नाही सुत हित सुख, आशा, अभिलाषा से;
जननी कितनी भी हो निर्दय-कठोर,
पृथक नहीं कर सकते मां की परिभाषा से।


- सत्यव्रत रजक

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts