लड़की थी बड़ी भोली's image
Poetry1 min read

लड़की थी बड़ी भोली

Satya Narayan TiwariSatya Narayan Tiwari October 2, 2022
Share1 Bookmarks 247 Reads1 Likes
एक यात्रा सफ़र मे,
मैनें देखा ऐसी युवती, 
थी तो वह नवविवाहित, 
कुछ थोड़े से गहनों से सुसज्जित, 
श्वेत वस्त्र धारण किये, 
प्रेम प्रसाद हाथ में लिये, 
पति प्रेम में रंग चुकी थी, 
एक नन्हीं सी जान जन चुकी थी, 
मैने देखा, वह धीरे-धीरे पाँव हिला रही थी, 
क्यूँकी अपने कुलदीपक को सुला रही थी, 

वहीं थोडी दूर पर बगल में, 
पति रहा बसा उसे नयनों में, 
श्वेत वस्त्र खुद भी धरा था, 
प्रेम को पूरित किया था, 
मेरी तरह लोगों को भी, प्यारी लगी उनकी जोड़ी, 
लोगों के बहुत कहने पर, पति से सहमति लेकर, 
सहमे हाथों से थी घूंघट खोली, 
प्यारे से दो शब्द बोल कानो में मिश्री घोली, 
कुछ भी हो, वो लड़की थी बड़ी भोली।

               Satya Tiwari 

#यात्रा
#यात्रा वृत्तांत 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts