कविता's image
Share0 Bookmarks 14 Reads0 Likes

सुंदर सुंदर पुष्प खिले हैं

आंगन आंगन शहनाई है

विपदा कितनी निष्ठुर है

इसे नआना था तब आई है


दिल का दौरा माली को, 

और पुष्प हुआ विह्वल लाचार, 

धरती को कुछ समझ न आया, 

क्यूं वक्त ने की निठुराई है।


पीड़ा-खुशियां दो सामां है, 

मिलते हैं साझे में सबको, 

जिसकी करनी सुंदर खुशियां, 

बदसूरत ; पीड़ा पाई है।


✍️ Saritaom

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts