सुन रे #2 (नक़ाब)'s image
1 min read

सुन रे #2 (नक़ाब)

sandysoilsandysoil June 16, 2020
0 Bookmarks 43 Reads1 Likes

जीवन तो है ४ दिन, जानत है हर कोय,

फिर काहे लगा नक़ाब सौ, सब फिरत रहे इतराय।

सुन रे, मति संसार की ऐसी फिरी है आज,

सूरत रास ना आवे वो, जिसपे नक़ाब न कोय।


-संदीप गुप्ता SandySoil

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts