संभल कर चलना's image
Love Poetry1 min read

संभल कर चलना

sandysoilsandysoil August 5, 2020
Share0 Bookmarks 104 Reads2 Likes

संभल कर चलना गलियों में इश्क़ की दिल-ए-नादाँ,

सुना है इश्क़-विश्क़ अब डिजिटल हो गया है।


-संदीप गुप्ता SandySoil

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts