झूठा सच's image
Share0 Bookmarks 37 Reads0 Likes

घर से जब पहली बार निकला था

 तो उस ने झूठ बोलना सीखा था

 क्या याद है तुम्हें उस झूठ बोलने पर वो कितना बिफरा था 

लगा था घर का सारा सिखा सिखाया इधर उधर बिखरा था

सच से नहीं सच के दिखावे से डरता था

ऊपर से साफ दिखने वाले 

पर अंदर की मिलावट से डरता था

फिर कड़वे सच बोलने पर 

उसने कितने अपनों को खो दिया

उसने भी मीठा झूठ बोलने का हुनर बो दिया

धीरे धीरे झूठ छोटे मझले और बड़े होते गये

सच की रोशनी में झूठ के काले साये खड़े होते गये

 जब उसका झूठा सच जमाने से मिला 

अन्य की तरह अपने झूठ को ही सच्चा पाया

लगता था अब सही जगह आया 

अपने झूठे सच के लिये वो कितने कड़वे घूंट पीये

वो सच्चा है अपने सच के लिये और झूठा अपने झूठ के लिये

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts