माता-पिता's image
Share0 Bookmarks 0 Reads1 Likes

जिन्होंने बनाया मुझे,

वो मेरे चेहरे में नज़र आते हैं।

नन्ही सी मेरी मूरत को कभी,

अपने बाहों की पालकी में सैर कराई है।

कभी उनकी गोद ने,

मुझे मीठी नींद सुलाया है।

मुझे याद हैं वो रातें,

जब मेरी फिक्र ने बेचैन किया उन्हें,

करवट बदल बदल कर उन्होंने रातों को बिताया है।

मेरी गलतियों नेमेरी तकलीफ़ों ने,

जब दर्द दिया उन्हें,

अपना लहू उन्होंने आँसुओं में बहाया है

माफ़ कर दिया मेरी हर भूल को।

लड़खड़ाते मेरे कदमों को,

हमेशा उनका साथ मिला है।

मेरी छोटी सफलताओं सेजीत से,

यूँ खुश होते कि जैसे आसमान छू लिया है।

उनका वो अंश हूँ मैं,

जिसे उन्होंने पलकों पर बिठाया है।

चाहे जुदा हो कभी सोच हमारी,

चाहे अनबन हो कोई,

ये हकीकत है कि,

हर नाराज़गी मेंडाँट में भी,

एक दूसरे के लिए प्यार ही पाया है।

मेरे माथे की शिकन में,

मेरे होठों की मुस्कान में,

उनका चेहरा नज़र आया है।

मैं खुशनसीब हूँ कि,

मेरे सिर पे माता-पिता का साया है।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts