परिवर्तन का पर्याय's image
Poetry1 min read

परिवर्तन का पर्याय

Sameer KambleSameer Kamble October 2, 2021
Share1 Bookmarks 13 Reads1 Likes

हो साथ वो जो आपका दर्पण बने,

आपकी खूबियों संग खामियां भी चुने,

बताए आपको के कहाँ खड़े हो आप,

प्यार से, तो कभी सीधे कह दें बात,

अपने ज्ञान के सागर को आपके समक्ष रख दें,

आप में निखार लाना उस के मन को सुख दें,

दिल भी कहे आपका,

के कायनात उसको सब कुछ दें,

तुम से ज़्यादा कोई खुशनसीब नहीं,

उस से बड़ा कोई शुभचिंतक नहीं,

तुम्हारे सुख और दुख में शामिल हो वही,

बताए तुम्हे क्या कर रहे तुम गलत और क्या सही,

ऐसी एक व्यक्ति मैं ने जीवन में आई,

सोना मुखड़ा और सुंदर आत्मा उसकी,

अनेक गुणों संग मधुर आवाज़ है उसकी,

शीतल आंखें और "प्यारी" सी मुस्की।


- समीर



I Dedicate this to You Pyaari❤️✒️


Thankyou for being my mirror✨


Thankyou for Everything ❤️

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts