इल्म-  एक लेख's image
Article3 min read

इल्म- एक लेख

Salma MalikSalma Malik January 17, 2023
Share0 Bookmarks 21 Reads0 Likes
"इल्म"

दुनिया की सबसे खूबसूरत चीज़ है "इल्म"।इल्म हासिल कीजिये, जितना ज़्यादा कर सकते है उतना कीजिये।क्योंकि आपके पास जितना ज़्यादा इल्म होगा,आपको किसी और चीज़ की ज़रूरत उतनी ही कम महसूस होगी।
आपका इल्म आपके बर्ताव में,आपके लहज़े में आपके व्यवहार में झलकता है ठीक वैसे जैसे अक्सर भरे हुए जाम छलक जाया करते है,आपका ग़ुरूर आपकी अना भी आपमें झलकती है।इल्म बेशुमार हासिल कीजिए मगर उस इल्म पर अना नहीं कीजिए।
और मेरा मानना है कि दुनिया का सबसे ज़्यादा इल्म उन किताबो में है,जो आज तक तुमने नही पढ़ी।किताबें पढ़िये क्योंकि किताबें ज़िन्दगी को आसान और आपको जीना सिखाती है।
बेशक़ अब किताबें सड़कों पर,और जूते चप्पल दुकानों में बिकते है,और ये बात सबूत है इस बात की,कि हमारे पास इल्म की कितनी कमी है।हम आज तक किताबों और इल्म की ज़रूरत को महसूस नहीं कर पाए है जिसका सबसे ज़्यादा नुकसान हमारे साथ साथ हमारी आने वाली पीढ़ियाँ भी देखेंगी।
कहा जाता है कि इल्म हासिल करने के लिए अगर आपको चीन तक भी जाना पड़े तो जाईये।मगर इल्म हासिल कीजिये क्योंकि दुनिया की कोई दौलत इससे बड़ी नहीं है।

वैसे तो मैंने ज़्यादा किताबें नहीं पढ़ी ,सच कहूँ तो ज़्यादा किताबें मेरे पास है भी नहीं।यूँ तो पहले भी वीनस केसरी जी की "ग़ज़ल की बाबत" पहले भी पढ़ी है,मगर कल एक बार और पढ़ने की सोची तो शुरुआत में ही ज़ौक़ साहब की ये चार लाइन्स पढ़ी जो बेहद उम्दा है और इस बात का सबूत है कि आप चाहे कितना भी पढ़ ले मगर अंत में जानेंगे कि दुनिया में जानने के लिए बहुत कुछ है और आप बहुत कम जानते है,इसलिए जितना ज़्यादा हो सके उतना ज़्यादा इल्म हासिल कीजिये।अब शेर पढ़िए-

"इस जिहल का है ज़ौक़ ठिकाना कुछ भी,
दानिश ने किया दिल को न दाना कुछ भी,।
हम जानते थे कि इल्म से कुछ जानेगे,
जाना तो ये जाना कि न जाना कुछ भी।"
                                    - ज़ौक़

अगर मैं इसकी तशरीह (explanation) करुँ तो इसका मतलब है कि जिहल(जो कुछ न जानता हो) किसी भी चीज़ को अपना ठिकाना समझ सकता है,दानिश(दिमाग़)ने दिल को बिलकुल भी दाना(समझदार)नहीं किया।और हम सोचते थे कि इल्म(knowledge) हासिल करने से हम कुछ जान जायेंगे मगर बाद में पता चला कि दुनिया में जानने के लिए बहुत कुछ है मगर बहुत कुछ जानने के बाद भी हम तो बहुत कम या न के बराबर ही जान पाए हैं।

इसलिए पढ़ते रहिये,इल्म हासिल करते रहिए।

©- सलमा मलिक
17 January 2023

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts