अब इसे इश्क़ का इज़ाफ़ा कहे या फिर नुक़सान …'s image
Romantic PoetryPoetry1 min read

अब इसे इश्क़ का इज़ाफ़ा कहे या फिर नुक़सान …

SajidaKJSajidaKJ February 19, 2022
Share1 Bookmarks 63 Reads1 Likes

अब इसे इश्क़ का इज़ाफ़ा कहे या फिर नुक़सान …


सनम तुझसे है ख़फ़ा और आँसू हुए है मेहरबान …


#साजिदा

@HindiPoemz

#SajjShayeri 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts