बात अनकही's image
Share0 Bookmarks 86 Reads0 Likes
जाने ये कौनसी बात है जो मुझे सता रही है
मन में तो है पर होंटो पर नहीं आरही है
कहू की नहीं कहू ये मैं सोचता हूँ
इस बात का जवाब ख़ुद ही मैं खोजता हूँ

समझ लोना इन बातो को आँखों से ही
रहने दो ना कुछ बाते अनकही ही

होगा क्या कहने के बाद उसी का डर है मुझे
कही गलती से खो न दु तुम्हे 
यही फिकर है मुझे

पर बात कहना तो ज़रूरी है
सच तुम्हारे सामने रखना, मेरी मजबूरी है

क्योंकि जताना हमे आता नही
और बताने की हिम्मत, हम जुटा पा नहीं रहे
ये जो मेरे भाव है, वह बहार आ नहीं रहे
कहते है आँखे सच्चाई बताती है, लेकिन ना देखने वालो के लिए बहुत बाते छुपाती है

अगर इतना पढ़के भी
तुम समझ पा नहीं रही
तो सही में रहने दो न
ये बात युही अनकही

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts