मां की महिमा's image
Poetry2 min read

मां की महिमा

Shivraj AnandShivraj Anand October 24, 2022
Share0 Bookmarks 26 Reads0 Likes

माँ ! हम आये तेरे शरण में ,नित छुएं चरण, मम निवेदन स्वीकार करो !
यही है भाव भजन, मन लगी लगन, मम-जीवन निर्माण करो !

हम सब बाल  पौधे माँ ! तू मा
मालिन साथ है |
तू जननी !हम लाल ,
सब तेरे हाथ हैं ||
जग सृजनी !  दे तूं जैसी आकृत,
सब तेरा प्रत्युपकार हैं |
 हम सब कच्ची मिटटी,
 तू सबका कुम्भकार है ||
तू भू की रानी!  ,तू अम्बर की न्यारी माँ |
तुझमे बसी दुनिया सारी।
  तुझमे तरी दुनिया सारी माँ ।।
हे स्नेहमयी माँ  ! 
तेरी गोद में हमने सोया |
तेरी आचंल में हमने खाया !
तेरी आँचल में हमने खेला !
तुझ संग मिलकर हमने रोया !
 तूने हमे कहा - आँखों का तारा !
हमने तुझे कहा – ध्रुव का तारा !!
' राम-कृष्ण, भीष्म –युधिष्ठिर तूने बनाया ||
सच है की कर्ण – अर्जुन, बुध्द-महावीर तूने ही बनाया |
तेरी महिमा अपार माँ ! तेरी महिमा अपार
हे नित्य माता ! तूने ही शंकर – रामानुजन, गाँधी – मालवीय
सबको हिय का अमीरस पिलाया ||
तेरी महिमा अपार माँ ! तेरी महिमा अपार........
हे माँ ! हमे भी शरण दो, मन की कुबुद्धि हर दो |
हे वर दायिनी वर दो , जीवन धीर – वीर कर दो |
माँ ! मेरे जीवन की बगिया, नित्य खिलती रहे |
तुझ से बनी सांसों की डोरियाँ चलती रहें ||
माँ ! तू बस इतना करम कर दो |
निज वत्स का इतना धरम कर दो ||
हमे झुकाएं शीश, तूं हमें शुभाशीष दे दो ||

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts