शहर's image
Share0 Bookmarks 20 Reads0 Likes

परिंदों को नहीं भाता, ये गारे ईंट का जंगल

न जाने क्यूँ शहर मेरा, बना कंक्रीट का जंगल


दफ़न इनके तले मासूमियत, सपने, तमन्नाएं

तरक़्क़ी बो गई पत्थर के लाखों फीट का जंगल


- साहिल

Twitter: @Saahil_77

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts