यादों का खण्डहर's image
Kavishala DailyPoetry1 min read

यादों का खण्डहर

Sahdeo SinghSahdeo Singh November 11, 2021
Share0 Bookmarks 6 Reads0 Likes

यादों के खण्डहर में

भटकने से ,

सपनों की इमारत नहीं

बनती,

बीती हुई यादों में टूटे सपनों

की खरोंचे नश्तर बन

दिल में हैं चुभती ।

जो बीत गया वो सुखद था

या दुखद उनको याद करके

आज की खुशियां नहीं मिलती ।।

In the ruins of memories

by wandering,

not a dream building

paired,

Broken dreams in past memories

let's scratch become a lancer

There is a sting in the heart.

what passed was a happy one

or sad remembering them

Today's happiness is not available.


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts