उषा की किरणें's image
Share0 Bookmarks 14 Reads0 Likes

जैसे जैसे रात ढलने लगती है,

सूर्य की आभा निकलने लगती है,

रात्रि की गहरी अन्धेरी कालिमा,

रोशनी में सिमटने लगती है ।

जैसे जैसे रात ढलने लगती है ।

रोशनी से नहाई ये सुबह,

पक्षियों की चहचहाट की मधुर धुन,

जिन्दगी की मधुरस भरी ये सुबह,

उम्मीद की सरगम की है सुबह,

जिन्दगी में सफलता की रूनझुन ।।

As the night begins to fall,
The sun begins to shine,
the dark darkness of the night,
The light begins to fade.
As the night begins to fall.
This morning bathed in light,
melodious chirping of birds,
This sweet morning of life,
There is a gamut of hope in the morning,


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts