सूरज का क्रोध's image
Share0 Bookmarks 70 Reads0 Likes

आज सूरज धरती से नाराज है,

तेज ताप से उगलता आग है,

खुद भी जला रहा खुद को,

धरा को भी,

किस बात से उगल रहा आग है,

सारी सृष्टि के जीव परेशान हैं,

कोई राहत नहीं धूप से बेचैन हैं,

पेड पौधे फूल मुरझा गये हैं सभी,

सूरज के क्रोध से जल रहे हैं सभी,

सूर्य देव के गुस्से का आगाज है,

आज सूरज धरती से नाराज हैं ।

प्रकृति में भी क्रोध का है सृजन,

इसलिये कहीँ भूकम्प,

कहीं ताप का अगन,

कहीं सैलाब तो कहीं ज्वालामुखी,

सृष्टि का जीव से ऐसा लगाव है,

नाराजगी का छोटा सा अंदाज है ।

आज सूरज धरती से नाराज है ।।

Surya angry:
Today the sun is angry with the earth,
There is a fire spewing with high heat,
Burning himself too
earth too,
What is the fire spewing from?
The creatures of the whole creation are troubled,
There is no respite, restless from the sun,
All the trees and flowers have withered,
All are burning with the anger of the sun,
The anger of the sun god is beginning,
Today the sun is angry with the earth.
Anger is also created in nature,
That's why an earthquake
Somewhere the fire of heat,
Somewhere floods, some volcanoes,
The creation has such attachment to the creature,
There is a slight hint of resentment.
Today the sun is angry with the earth.


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts