सियासत शतरंज's image
Share0 Bookmarks 84 Reads0 Likes

बड़ी बेदर्द जमीं है सियासत की यारों,

इस पर जो चलते हैं वो भावनाओं में नहीं भटकते,

इनकी नजर में सत्ता का आसमानी खयाल,

ये कहां अवाम की फिकर करते हैं ।

सत्ता के सुनहरे झूले में झूलने की ख्वाहिश में,

नए नए दांव लगाते रहते,

जीत हार के इस शतरंजी चाल में,

अवाम मोहरा बन चलती रहती ।।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts