सत्य की तुला's image
Share0 Bookmarks 528 Reads0 Likes

विश्वास है मुझे अपने किरदार पर

माना की मजबूर हूँ वक्त के चाल पर

वक्त तो सदा सच को तोलता,

भगवान को भी चुनौती वक्त

से मिलता ,

चौदह साल का वनवास श्री राम

ने बिताया,

श्री कृष्ण ने जन्म कारागार में पाया,

भगवान को भी देना पडा सच्चाई

का सबूत,

तो इंसान कैसे बच सकेगा वक्त

है सब कुछ ।

सच को तो तुला में तौला गया,

द्वापर,त्रेता,सतयुग या फिर

कलयुग का महाकाल ।।

I believe in my character

Believe that I am compelled on the course of time

Time always weighs the truth,

time to challenge god

meet with,

Fourteen years of exile Shri Ram

spent,

Shri Krishna found birth in the prison,

God also had to give the truth

proof of,

So how can a person save time?

is everything.

Truth was weighed in Libra,

Dwapar, Treta, Satyug or else

Mahakal of Kali Yuga.


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts