पिंजरे से आजाद's image
0 Bookmarks 4 Reads0 Likes

पिंजरे से निकलेगा पंछी आज

आजादी की आज लेगा सांस,

चमक दमक में पला था जो ,

कैदी बन जेल में था वो,

आज खुली हवा में लेगा सांस,

अपराधी होने का अहसास ,

दौलत शोहरत काम ना आया,

नहीं चला कोई सरमाया ,

पच्चीस दिनों तक जेल में काटी रात,

समझ में आया कानून की औकात ।।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts