जीवन एक सफर's image
Share0 Bookmarks 28 Reads0 Likes

जिन्दगी एक सफर है,

हम सब इस सफर के मुसाफिर हैं,

अजनबी मिलते हैं कुछ कदम,

साथ चलकर अपना

रास्ता बदल लेते हैं,

कोई साथ साथ नहीं चलता,

जिन्दगी के सफर में हर इंसान,

अजनबी और अकेला है,

सबकी मंजिल और रास्ते अलग,

कांटे मिले या फूल,

जंगल हो या पर्वत,

हर इंसान अकेला ही सामना

करता है अपनी चुनौती का,

जीतता वही है जो भयमुक्त है,

ना जीत की खुशी ना हार का गम,

बस उसका तो धर्म है कर्म ।।

धर्म है कर्म ।।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts