गुनाह का हिसाब's image
Share0 Bookmarks 48 Reads0 Likes

किसी के गुनाह का हिसाब

रखेगा कौन,

अब तो ऊपर वाले का भी न्याय

देर से मिलता है,

जब इंसान ईश्वर की सत्ता को भी

चुनौती देने लगा,

तो गुनहगार को सजा देगा कौन ?

जब सारी व्यवस्था ताकतवर की गुलामी

में मशगूल,

तब किसी मजलूम को न्याय देगा कौन ।

हम सब कैसे कालखंड में जी रहे जब

फरियादी मुजलिम बना दिया जाता है

बेगुनाह सजा का हकदार बना दिया

जाता है,

गुनहगार महफिलों में नजर आता है ।।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts