बहुरंगी दुनिया's image
Kavishala DailyPoetry1 min read

बहुरंगी दुनिया

Sahdeo SinghSahdeo Singh November 11, 2021
Share0 Bookmarks 34 Reads0 Likes

यह दुनिया बहुत बहुरंगी है,

स्वार्थ के सब संगी हैं,

मतलब पर कोई ना पहचाने

सब के रंग अतरंगी हैं ।

मतलब के सब साथी हैं

दोस्त हो या सहपाठी हैं,

वक्त के साथ बदल जाते हैं

अपना बल ही संगी है ।।

खुद पर ही विश्वास करो,

अपने हुनर की आस करो,

छोडो दुनिया की चमक दमक

अपना हुनर सतरंगी है ।।

This world is so colorful,

All are accomplices of selfishness,

meaning no one knows

Everyone's colors are different.

means all friends

Be it a friend or a classmate,

change over time

Your strength is your companion.

believe in yourself,

Look forward to your talent

leave the world shining

Your skill is stellar.



No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts