आंधी's image
Share0 Bookmarks 20 Reads0 Likes

कोई हमदम ना रहा

कोई सहारा ना रहा,

जिन्दगी तेरे बज्म में

अपना गुजारा ना रहा

कोई हमदम ना——-

एक आंधी जो आयी,

बन गयी मेरी तन्हाई,

इस तन्हाई में कोई

किनारा ना रहा

कोई हमदम ना रहा—–

मैंने क्या जुर्म किया जो

सजा मुझको दिया,

मेरे जीने के मकसद को

ऐसा अंजाम दिया

अब तो अपना कोई

अपना ना रहा

कोई हमदम ना रहा

कोई किनारा ना रहा ।।

 No one cares

no help,

life in your life

don't make a living

No shame---

a storm that came,

My loneliness has become

someone in this solitude

don't be on edge

There is no shame--

what crime did i commit

punished me,

the purpose of my life

done so

now your own

don't be yours

no one cares

There is no edge.


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts