आम इन्सान और नियति's image
Kavishala DailyPoetry1 min read

आम इन्सान और नियति

Sahdeo SinghSahdeo Singh November 6, 2021
Share0 Bookmarks 25 Reads0 Likes

हम आज में जीते हैं

हम आज में मरते हैं

हम अपनी कहानी तो

खुद ही कहते हैं ।

जो कुछ भी मिला हमको

खुश होकर स्वीकार किया,

जीवन के जहर को भी

हंसकर हमने पिया ,

हम नीलकंठ नहीं जो

जो जीवन रचते हैं,

हम तो आम इंसान,

नियति से चलते हैं

हम अपनी कहानी तो

खुद ही कहते हैं ।।

We live in today

we die today

we are our story

Says himself.

whatever we got

gladly accepted,

even the poison of life

Laughing we drank

We are not Neelkanth who

who create life,

We are common people

go by destiny

we are our story

Says himself.


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts