इक नदी's image
Share0 Bookmarks 12 Reads0 Likes
खुद ही तराशा था रस्ता मैंने इन पहाड़ों से टकराकर,
किसी इमदाद की कोई दरकार न थी।

फिर एक मैदान दिखा तो थोड़ा सुकून मिला,
क्या मालूम था इस मैदान के नीचे एक झरना होगा,
जो उठाकर मुझे उसी राह पर आ पटकेगा।

रूपी

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts