प्रेम शायरी's image
Poetry1 min read

प्रेम शायरी

RUPESH GAURAVRUPESH GAURAV April 22, 2022
Share0 Bookmarks 0 Reads1 Likes
आज मेरे आंगन में सर्दियां है
कि आज उनकी वस्ल की मर्जिया है।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts