चांद को चूमना हैं l's image
Poetry1 min read

चांद को चूमना हैं l

RudipekshaRudipeksha October 19, 2022
Share0 Bookmarks 50 Reads2 Likes
गालियों के सारे सुराख जानने हैं

आज फिर चांद को चूमना हैं,


               #Rudipeksha

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts