उम्मीदें's image
Share0 Bookmarks 28 Reads1 Likes

उम्मीदें करी जो कम

तो खुशी बेहिसाब मिली

आत्मीयता के आगे

रास न आई संगदिली


हौसला किया जो बुलंद

तो मुश्किलें सारी दूर हुईं

चैन ओ सुकून का साथ पाकर

बेचैनियाँ चकनाचूर हुई


करी जो कद्र ख़ुद की

तो शख्सियत मशहूर हुई

ख़ुद से ख़ुद की दूरी कि

गलतफहमियाँ अब दूर हुई

गलतफहमियाँ अब दूर हुई

✍️✍️

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts