न रिश्ता खून का's image
Poetry1 min read

न रिश्ता खून का

Roopali TrehanRoopali Trehan June 17, 2022
Share0 Bookmarks 20 Reads1 Likes

न रिश्ता खून का

न कोई बाहरी संबंध

फिर भी जुड़ जाता है

कुछ लोगों से अनुबंध


न कोई मुलाक़ात

न कोई बात चीत

फिर भी बन जाते हैं

कुछ लोग मन के मीत


न कोई उम्मीद

न कोई आशा

फिर भी जुड़ जाता है

कुछ लोगों से रिश्ता बेतहाशा


न कोई इरादा

न कोई वादा

फिर भी दिल मानता है

कुछ लोगों को हद्द से ज़्यादा

✍️✍️

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts