महिला दिवस's image
Share0 Bookmarks 18 Reads0 Likes

कभी माँ तो कभी बहन

बनकर ख्याल रखती है

कभी प्रेमिका तो कभी अर्धांगनी

बनकर प्रेम लुटाती है

कभी बेटी तो कभी बहू

बनकर दुलार करती है

कभी औरत तो कभी स्त्री

बनकर गले लगाती है

उधड़े हुए सपनों को

हौसलों के धागों से

झट से सिल जाती है

हो जाए जो गलती तो

सहर्ष गले लगाती है

सहनशक्ति,सरलता और

विश्वास की अदभुत मिसाल है

ख़ुद को करके नज़रअंदाज़

रखती औरों का हरदम ख्याल है

बारहों महीने करती है काम

बिना किसी पगार के

लुटाती है दिल ओ जान सबपर

अपना सबकुछ वार के

अपना सबकुछ वार के

✍️✍️

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts