लुका छिपी's image
Share0 Bookmarks 9 Reads1 Likes

मन है उदास,

दिल है भरा भरा सा

साँसें है बेचैन,

हर ज़ख्म हरा हरा सा


मुस्कान है ओझल ,

दर्द है बढ़ा बढ़ा सा

परेशानियाँ हैं तमाम ,

सुकून ज़रा ज़रा सा


आँखें है नम ,

लबों पर छाई है चुप्पी

ज़िंदगी खेल रही

ना जाने कैसी लुका छिपी

ज़िंदगी खेल रही

ना जाने कैसी लुका छिपी

✍️✍️

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts