कुछ इस तरह's image
Share0 Bookmarks 14 Reads0 Likes

कमियाँ खोजते हैं 

हम औरों में कुछ इस तरह

जैसे खुद के सिर पर 

पूर्णता का ताज हो

दोष ठहराते हैं दूजों 

पर इस क़दर जैसे

ख़ुद के भीतर गूंजती हरदम

खूबियों की आवाज़ हो


गलतफहमियाँ बुनते हैं 

कुछ इस तरह जैसे ख़ुद 

विश्वसनीयता का पात्र हों

आरोप गड़तें हैं औरों पर

कुछ इस क़दर जैसे

स्वयं यथार्थता का खान हों


फैसले सुनाते हैं

औरों को इस तरह जैसे

ख़ुद न्यायाधीश का वंश हों

झूठा ठहराते हैं दूजों को 

इस तरह जैसे ख़ुद

हरिश्चंद्र का अंश हों

✍️✍️

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts