मैं नादान हूँ's image
1 min read

मैं नादान हूँ

Nek Dil BandaNek Dil Banda December 26, 2021
Share0 Bookmarks 33 Reads1 Likes
मैं नादान हूँ
रास्ता अंजान है:-
भीड़ बहोत है फिर भी सुनसान ,
मंजिल पाने को:– निकल पड़ा हूँ ,
सब्र का घूंट- खूब पी चुका हूँ
मायूसी में भी खूब जी चुका हूँ ,
इस पागलपंती में कर दिया है:-
खुद का काफी नुकसान ,
मंजिल पाने की खातिर:-
लगा दूंगा पूरी जान ,
~ रोहित के.डी.

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts