इजहार's image
Share0 Bookmarks 23 Reads1 Likes

धड़कनों में:-
अजीब हलचल है ,
इस जिस्म में:- तो
रूह भी कलतक है ,

जो बात दिल में हैं:-
उसे जुबां से आज ही 'कह' दूंगा ,
और:– उसके हाँ कहते ही ,
गंगा में नहाकर सारे पाप 'बह' दूंगा ,
                         ~ रोहित के.डी.

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts