युद्ध  किस लिए    [ Yudh Kis Liye ]'s image
International Poetry DayPoetry1 min read

युद्ध किस लिए [ Yudh Kis Liye ]

rmalhotrarmalhotra March 29, 2022
Share0 Bookmarks 131 Reads1 Likes

आखिर क्या पाना चाहता है इंसान

जिसे हासिल नहीं कर पा रहा है,

किस के लिए इंसान इंसान को

एक दूसरे से लड़वा रहा है ।


फ़र्ज़ से बंधे सैनिक अपनी जान पर

खेल कर देश की आन बचा रहें है ,

खुदगर्ज है वो हैवान जो बेवजह,

एक सैनिक को दूसरे से लड़वा रहे है ।


क्यों बनाते है हम सरहदें? और किस के लिए ?

क्यों खून की होली बेगुनाहों को खिला रहे है।

ख़ुदगर्ज़ी ही केवल उनका उद्देश्य है, 

जो अपनी महत्वकांक्षां पूरी करने के लिए 

मासूम लोगों को घर से बेघर करवा रहे है । 


कर्तव्य से बंधे सैनिक सता के जटिल खेल को

ना समझना चाहते है, ना समझ ही पा रहे है ।  

उनका परम् धर्म तो देश की सुरक्षा है,  

कर्तव्य वो अपना बाखूबी निभा रहे है ।

वो सदा देश के लिए ही जिए है, और देश के लिए 

अपने प्राणों का बलिदान देते आ रहे है। 


~राकेश की क़लम से 

@RakeshMalhotra

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts