हिन्दवी  [ Hindavi ]'s image
Poetry1 min read

हिन्दवी [ Hindavi ]

rmalhotrarmalhotra September 16, 2021
Share0 Bookmarks 177 Reads1 Likes

सभ्यता और संस्कृति की नदिया है हिन्दी

देश विदेश मे बहती यह अविरल धारा है

 

संपर्क और संवाद का सेतु है यह अनुपम

सहजता और सरलता का है अद्भुत संगम

 

स्वर और व्यंजन है सुन्दर इसके आभूषण

देवनागरी लिपि में वर्णो का सुन्दर मिश्रण

 

जितनी प्रकार की ध्वनियाँ उतने ही है अक्षर

एकरूपता ऐसी परिलक्षित होती और किधर

 

पूर्वजों की धरोधर को जो संजो कर रखना है

तो हिन्दी का उपयोग गर्व से हमको करना है

 

संकल्प आज हमको केवल इतना करना है

आज से हस्ताक्षर अपना हिन्दी में करना है  


राकेश की कलम से

@Rakesh Malhotra




No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts