चुनौती's image
Share0 Bookmarks 135 Reads0 Likes

चुनौती

राकेश मल्होत्रा


दुनिया बदली हुई अलग-थलग सी दिखती है,

डरी सहमी थकी हारी बेचारी सी लगती हैं |

क्रम यही है संसार का सृष्टि के आधार का,

आत्मचिंतन, परिहार, मंथन और विचार का |


लेकिन जो होता है विधाता का रचा होता है,

आपदा में ही तो परीक्षण पुरुषार्थ का होता है|

अनिश्चता में ही जन्म नए अवसर का होता है,

परमयोगी नहीं कभी रोना भाग्य का रोता है |



कर्मयोगी विष धारण करके ही अजय होता है,

निःस्वार्थ सेवा ही परम उसका धर्म होता है |  

मानवता का बोध संवेदना व करुणा से होता है,

विनम्रता और साहस नेतृत्व की कसौटी होता है|


जीवन जब मानवता को खुली चुनौती देता है,

मानव तब कठिनाईओं से जूझना सीखता है|

ईश्वर जब हमारे हौंसलों को आजमाता है,

तो आस्था और विश्वास मजबूत हो जाता है|

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts