आईना   [ Aaina ]'s image
Share0 Bookmarks 306 Reads1 Likes

एक आईना था,

जो मुझे हक़ीकत से

रूबरू कराता था I

ज़माने ने

उसे ही तोड़ दिया,

जो मुझे

खुद से मिलाता था I

मैं अक्सर उसे देख कर मुस्कराता था,

वो भी एकटक मुझको देखता जाता था I

कई खामियां थी मुझ में,

वो बेख़ौफ़ मुझको बताता था I

मुझ को यक़ीन था उस पर ,

वो संवारता था,

और मैं संवर जाता था I


~ राकेश की कलम से 

@RakeshMalhotra




No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts