मोहब्बत का एक लम्हा's image
Love PoetryPoetry1 min read

मोहब्बत का एक लम्हा

Ritika SharmaRitika Sharma October 12, 2021
0 Bookmarks 51 Reads1 Likes
मोहब्बत का एक लम्हा मैंने महसूस किया है।

घर देर तक न आने पर उसकी चिंता,
कभी फोन न उठाने पर उसकी घबराहट को महसूस किया है,
हाँ, मोहब्बत का एक लम्हा मैंने महसूस किया है।

तबियत खराब हो जाने पर हर पैतरे अपनाती है,
कभी हाथों से, तो कभी लालमिर्च से नज़र उतारती है,
उसकी प्यार, उसकी फ़िक्र को मैंने महसूस किया है,
हाँ, मोहब्बत का एक लम्हा मैंने महसूस किया है।

मेरी हर गलती को छुपाती है, कभी मुझसे तो कभी दुनियां से,
उसकी हर मजबुरी, हर चुप्पी को मैंने महसूस किया है,
हाँ, मोहब्बत का एक लम्हा मैंने महसूस किया है।

उसकी हर डांट मुझे सिखाती है, फिर भी कभी उससे मैं लड़ जाती हूँ,
उसकी हर नाराज़गी से लेकर हर हँसी को मैंने महसूस किया है,
हाँ, मोहब्बत का हर लम्हा मैंने महसूस किया है।

हाँ, मोहब्बत का हर लम्हा मैंने महसूस किया है,



No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts