मेरे अल्फाज़'s image
Share0 Bookmarks 103 Reads1 Likes
माँ! एक दिन ऐसा भी आये
मैं सरहद पर रहूं
तू गर्व से घर पर रहे

तू जब फोन मिलाये
मैं बोलूं, तो तेरा सर फक्र से उठ जाये

तू न डरे, बस तू मेरा ताकत बन जाये
गर आंच आये सरहद को भी, तो मेरा तन शहीद हो जाये.....

तू सुनके न रोए....गर रोए
तो तेरे हर आंसू मेरे मरहम बन जाये

मैं मर मिटू माँ अपने वतन पर
मेरा तिरंगा मेरा कफ़न बन जाये

तेरे सज़दे में मेरा हर करम हो जाये
कुछ ऐसे मुक्कमल हो मेरी दुआं
मैं तेरा वीर पुत्र, तू हर जनम में मेरी माँ बन जाये

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts