शायरी's image
Share0 Bookmarks 27 Reads1 Likes
बहुत तड़पा हूं मैं अब,उन सर्द रातों में,
जिनमें तुम अक्सर,मेरी बाहों में होती थी। 
लेखक-रितेश गोयल 'बेसुध'

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts