शायरी's image
Share0 Bookmarks 23 Reads1 Likes
क्या रखा है,महफिलों में,महखानों मे,
हम अक्सर डूबे रहते हैं,उन शरबती पैमानों में। लेखक-रितेश गोयल 'बेसुध

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts