शायरी's image
Share0 Bookmarks 24 Reads2 Likes
महफ़िल में नज़रे उठा कर देखता नहीं हूँ मैं,

कही मेरी आँखों में कोई उनका नाम ना पढ़ ले.....!

लेखक-रितेश गोयल 'बेसुध'

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts