शायरी's image
Share0 Bookmarks 25 Reads1 Likes
हर मोड़ पर हारा हुँ,अब मैं अपने इलाके में,
लगता हैं वो अपने,तेरे होने से मेरे थे।
 लेखक- रितेश गोयल 'बेसुध'

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts