शादी का कार्ड's image
Poetry1 min read

शादी का कार्ड

RITESH GOELRITESH GOEL December 11, 2022
Share0 Bookmarks 12 Reads1 Likes
कल दफ्तर से घर आया तो पत्नी ने बताया,
आपके मित्र के यहाँ से शादी का कार्ड आया,
यह खबर सुन कर मैं गम्भीर हो गया थोड़ा,
एक और मित्र ने शादी का लड्डु फोड़ा,
मन ही मन मैं बुदबुदाया वाह क्या सन्देश आया है,
आज मेरा ऊँट पहाड़ के नीचे आया है,
पढ़ते-पढ़ते मन मेरा भटका,
अपनी विरह कथा में जाके अटका,
मेरे दिल ने दिया मुझे झटका,
मेरे कल में ले जाकर पटका,
मैंने भी ऐसे ही शादी का कार्ड छपाया था,
आपकी भाभी जी को श्रीमती बनाया था,
तब से आज तक यु ही रो रहे है,
वो मैले कपडों की तरह हमको यु ही धो रहे है,
खैर ये तो हर शादीशुदा की आपबीती है भाई,
पता तो उसे चलेगा जिसकी आनी है लुगाई,
कुल मिला कर मित्र बधाई हो
 बधाई।
लेखक- रितेश गोयल 'बेसुध'

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts