आगमन's image
Share0 Bookmarks 21 Reads0 Likes
किसी रोज तुम आना तो ऐसे , 
जैसे बरसों से तरसते रेगिस्तान पर बारिश का मेहर आया हो । 
जैसे घंटों के तूफान के बाद सुकून आया है । 
जैसे मझधार में फैले नाविक को बचाने पतवार आया है । 
जैसे शिला बनी अहिल्या का राम आया है । 
जैसे यशोधरा की प्रतीक्षा के अंत में स्वयं सजीव ज्ञान आया है। 

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts