मुझको तो कुछ नहीं पता's image
MotivationalPoetry1 min read

मुझको तो कुछ नहीं पता

Rishabh KauravRishabh Kaurav March 16, 2022
Share0 Bookmarks 42 Reads0 Likes

सुबह और रात का सिलसिला

यह धर्मो का मसला

वोह काली रात का किस्सा

मुझको तो कुछ नहीं पता।


जिस्मों पर लगता सट्टा

अंगूर के रस का चस्का

खुद के ईमान को बेचने का हौसला

मुझको तो कुछ नहीं पता।


वोह छोटी उम्र में गले पड़ा रिश्ता

खाना देख भूखी आंखों का तरसना

मुमकिन हो जब भी खुल कर हंसना

मुझको तो कुछ नहीं पता।


हर दिन एक नई मौत मरना

अंजानो की हिफाजत में मर मिटना

उस चांद को किसी और का चेहरा समझना

मुझको तो कुछ नहीं पता।

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts