राग संग अनुराग होगा's image
Poetry1 min read

राग संग अनुराग होगा

response.diptiresponse.dipti March 10, 2022
Share0 Bookmarks 79 Reads1 Likes
राग संग अनुराग होगा
_____________________

मन विकल विचलीत बड़ा हैं
साख ज्यू तरु बिन खड़ा हैं
आया है मधुमास सज के
मूक खड़ा हैं हर्ष तज के

हैं कुसूम रंगो से शोभित
पर महक लगे ज्यु आरोपित
जो बसंती तान बहकी
आसुओं के संग लहकी

न लुभाए अबकी फागुन
नेह से नेहिल कोई गुण
रंगो में न वो खनक हैं
आँखो में गुमसुम चमक हैं

वो बसंती माह सुन लो
अबकी तुम कुछ आप बुन लो
आना अगले साल जब तुम
देखना मेरा हर्ष तब तुम

मैं कई कई गीत ले के
ईश के सम मन मीत ले के
तेरे स्वागत तब करूंगी
भावों में तुमको भरूंगी

तब बसंती फाग होगा
राग संग अनुराग होगा
राग संग अनुराग होगा....!!#दीप्ति श्रीवास्तव


No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts