स्वपन-परी's image
Share0 Bookmarks 19 Reads0 Likes

समंदर सी शब में

जब यादों का तूफ़ां उठता है

तब ख़्वाबों में आ कर

अपने रेशमी आँचल की पतवार से

मेरे बेकल मन की कश्ती को

साहिल-ए-क़रार तक लाने वाली

वो स्वपन-परी ... तुम हो


     - अभिषेक

No posts

Comments

No posts

No posts

No posts

No posts